Startup fundraising in hindi | स्टार्टअप के लिए पैसा |

Spread the love

Contents

startup ke liye paisa kaha se milega (Fund raising for Startups)

how to get funds for startup

Fund raising for Startups
Fund raising for Startups

Startup fundraising in hindi :-आजकल सब लोगो के पास बिजनेस का कोई ना कोई आइडिया जरुर होगा लेकिन 90% लोग फंड की कमी के कारन अपने आइडिया छोड़ देते हैं और नोकरी करने लगते हैं।

लेकिन बाकी जो 10% लोग हैं वो हिम्मत करके स्टार्टअप सुरु तो कर लेते हैं लेकिन कुछ समय बाद में उसे आगे बढ़ने के लिए फंड की जरूरत पड़ी है।

एक रिसर्च में पाया गया है की 90% स्टर्टअप इंडिया में फंड की कमी के करन बंद हो जाते हैं।

Step by step process of Startup fundraising

1. Legally business structuring for Startup fundraising :-

early stage startup funding आपको अपनी कंपनी का ढांचा Startup fundraising के हिसाब से बनाना पड़ेगा. यदि आपकी कंपनी proprietory ,partnership है तो आपको फंडरेजिंग में परेशानी आ सकती है । सबसे पहले आपको अपनी कंपनी को प्राइवेट लिमिटेड कंपनी बनाना पड़ेगा।

Fund raising for Startups
Fund raising for Startups

2 . customer scope in the market:-

आपको अपने कस्टमर के बार में रिसर्च करना चाहिए।आपका उत्पाद या सेवा सभी के लिए है ।या कोई विशेष श्रेणी के लिए।उदाहरण के लिए जैसे की ओला टेक्सी, जोमैटो आदि का उपयोग सभी के लिए संभव है।

ये उत्पाद या सेवा सभी प्रकार के ग्राहकों के लिए है।आप मार्केट से कितना रेवेन्यू जनरेट कर सकता है आपकी कंपनी के फ्यूचर प्लान क्या है।ये सब आपको रिसर्च करके कागज पर रखना होगा।

Fund raising for Startups

3. How much money is needed :-

इन्वेस्टर आपसे पूछेगा कि आपको कितना पैसा चाहिए,और आप इस पैसे का USE कैसे करोगे ।

आपको बताना होगा की आप इन्वेस्टर के पैसे का उपयोग कंपनी  या कंपनी के प्रोडक्ट की मनुफैचरिंग ,मार्केटिंग,ADS,मैनपावर आदि पर खर्च करोगे. इन्वेस्टर को संतुष्ट करना होगा।

Fund raising for Startups
startup fundraising in hindi 

4. Finding sector wise investors:-

आपको अपनी कंपनी या प्रोडक्ट के हिसाब से INVESTOR को ढूँढना चाहिए ,क्योंकि यदि कोई पहाड़ पर चढ़ कर कुँआ खोदेगा तो पानी नहीं निकलेगा |

यदि आपकी कंपनी FMCG सेक्टर में काम करती है ।तो आपको उससे सम्बंधित इन्वेस्टर के पास जाना चाहिए इस काम के लिए आप किसी दलाल को रख सकते है ।

जो 2% कमीशन पर आपको आपके इन्वेस्टर तक पहुंचा देगा। आज कल बहुत सी कम्पनीज दलाली का काम कर रही है जो आपको कुछ कमीशन लेकर आपको फण्ड रेजिंग में मदद करती है ।जैसे की ACCEL PARTNERS,NEXUS VENTURE,RPG VENTURE ETC.

Fund raising for Startups

5. Preparing your presentation:-

जब आप किसी इन्वेस्टर से मिलोगे तब आपको बोलने के लिए आपके पास कंपनी का पूरा प्रेजेंटेशन होना चाहिए .जिसमे आपको कंपनी की ग्रोथ के साथ साथ इन्वेस्टर की ग्रोथ उसका ROI कैसे निकल कर दोगे दिखाना पड़ेगा।

Fund raising for Startups
startup fundraising in hindi 

6. Investor should feel good :-

आपको investor का भरोसा जीतने के लिए उसको न कम न ज्यादा बताना है। उसको जो सच्चाई है वही बताइये , जैसे की आज आपकी सेल कितनी है और कल कितनी होगी ।

फ्यूचर में यदि INVESTOR पैसे लगाता है, तो आपकी SALE कितनी हो सकती है इसका सही अनुमान बताना होगा | जिससे कि इन्वेस्टर आपकी बात सुनकर फील गुड होना चाहिए ।

Fund raising for Startups
startup fundraising in hindi 

7. Investor will do physical investigation :-

अभी तक जो बातें आपने बोली हे, या जो पेपर पर आपने INVESTOR को दिखाई है वो उसका वेरिफिकेशन करेगा |आपको उसके लिए तैयार रहना होगा।

8. Legal agreement :-

इन्वेस्टर और कंपनी के बीच डील फाइनल होने के बाद legal agreement होगा जिसमे सभी term and condition होगी,जैसे कि किसका कितना शेयर होगा किसके क्या अधिकार होंगे आदि।

9. Personal relationship with investor:-

आपको इन्वेस्टर के साथ अधिक समय तक काम करने के लिए उससे सम्बन्ध अच्छे बनाने होंगे ,जिसका फायदा आपको और बहुत सारे इन्वेस्टर्स के रूप में दिखेगा और आपके कोई और प्रोजेक्ट में भी फंडिंग केरेगा।

Types of Startup fundraising

1. Self funding

2. Family & friends funding

3. Crowd funding

4. Angel investment

5. Startup india or msme lone

6. Bank loan

 7 .Incubator and Accelerator (इन्क्यूबेटर व एक्सेलेरेटर)

Self funding:-

Self funding, जिसे bootstrapping के रूप में भी जाना जाता है, Startup fundraising का एक प्रभावी तरीका है, खासकर जब आप अपना व्यवसाय शुरू कर रहे हों। संभावित सफलता की planning दिखाए बिना धन प्राप्त करने में परेशानी होती है।

आप अपनी बचत से निवेश कर सकते हैं या अपने परिवार और दोस्तों को योगदान देने के लिए कह सकते हैं। कम term and condition के साथ-साथ जुटाने की कम लागत के कारण इसे उठाना आसान होगा। ज्यादातर स्थितियों में, परिवार और दोस्त ब्याज दर को लेकर सरल होते हैं।

Family & friends funding :-

जब आप एक नया व्यापार शुरू करने की कोशिश कर रहे हैं। तो दोस्तों और परिवार , Startup fundraising के लिए अक्सर पहली जगह होती है। जहां आप कुछ fund जुटाने के लिए जाते हैं।

Family & friends funding क्राउडफंडिंग का एक रूप हैं। अधिक महत्वपूर्ण fund जुटाने के लिए आप परिवार के कई सदस्यों या करीबी दोस्तों से छोटी रकम ले सकते हैं।

Family & friends के निवेशक interest free आधार पर आपके व्यावसायिक उद्यम में fund लगाने के इच्छुक हो सकते हैं। वैकल्पिक रूप से, आप एक Family & friends funding agreement तैयार कर सकते हैं ।जो आपको आवश्यक धन उधार देने के लिए ब्याज, एक हिस्सेदारी या किसी अन्य प्रकार के profit का वादा करता है।

Crowd funding :-

Crowd funding तब होती है जब बड़ी संख्या में प्रत्येक व्यक्ति किसी project के लिए भुगतान करने के लिए fund देता है, विशेष रूप से धन online एकत्र करते हैं ।

यह एक ऐसा platform है जो आम लोगों के सपने पूरे करने में मदद करता है । यहां आप अपना प्रोजेक्ट लिस्ट करते हैं। और आपको कितने fund की जरूरत है वह बताना होता है। इसके बाद बहुत सारे लोग अपनी पसंद अनुसार आपके प्रोजेक्ट में इन्वेस्ट करते है ।

Crowd funding की बदौलत जो लोग आपको पैसा देते है , तो कई बार आपको बदले में कुछ देना पड़ता है जैसे की अगर आप फिल्म बना रहे हैं तो आपको पैसा देने वाले को प्रीमियर पर बुला सकते हैं या फिर कुछ product डिस्काउंट में दे सकते हैं.

क्राउडफंडिंग करते समय आपको यह बताना होगा कि आप fund कैसे और कहां use करेंगे इसकी पूरी जानकारी देनी होती है. कुछ क्राउड फंडिंग ऑनलाइन प्लेटफॉर्म जैसे की…

Fund raising for Startups
startup fundraising in hindi 

Angel investment :-

Angel investors ऐसे लोग होते हैं, जो स्टार्टअप के शुरुआती चरणों में निवेश करना चाहते हैं। अधिकतर निवेशकों के पास अच्छा-खासा फंड उपलब्ध रहता है।और वह पारंपरिक निवेश के तरीकों से अच्छे-खासे रिटर्न की तलाश में रहते हैं। दूसरे कर्जदाताओं की तुलना में ऐंजल इन्वेस्टर आसान शर्ते रखते हैं।

वह व्यवसाय की प्रकृति से ज्यादा व्यवसाय करने वाले एंटरप्रेन्योर को इंटरेस्ट में रखते हुए निवेश करते हैं। बिजनेस से आने वाले संभावित लाभ के बजाए ऐंजल इन्वेस्टर का पहला लक्ष्य स्टार्टअप की मदद करना होता है।

यही कारण है कि Angel investors की सोच दूसरे पूंजीपतियों (capitalists) की सोच के ठीक उलट होती है।

Angel investors को informal investor , private investor, seed investor और angel funder भी कहते हैं। या इन्हें बिजनेस ऐंजल भी कहा जाता है। ये वैसे लोग होते हैं, जो आमतौर पर धनी होते हैं, जो स्वामित्व equity या convertible loan के बदले में स्टार्टअप के लिए fund लगाते हैं।

कुछ ऐंजल इनवेस्टर ऑनलाइन क्राउडफंडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से निवेश करते हैं या ऐंजल निवेशक पूंजी इकट्ठा करने के लिए नेटवर्क पूल बनाते हैं।

startup fundraising in hindi
startup fundraising in hindi 

Startup india or msme loan :-

सरकार ने भारत में स्टार्टअप को प्रोत्साहित करने के लिए बहुत सारे कदम उठाए हैं| बहुत  सारी समस्याओं का अध्ययन करके उनके निवारण की कोशिश की है| समस्या के समाधान के लिए सरकार द्वारा स्टार्टअप के लिए, अनुपालन (compliance) करने के लिए, मिलनसार, लचीली और सरलीकरण की घोषणा की गई है|

भारत सरकार द्वारा स्टार्टअप्स के लिए बिज़नेस लोन

वर्तमान में भारत में 39,000 से अधिक स्टार्टअप हैं जिनके पास कई निजी इक्विटी और डेट फंडिंग विकल्पों तक पहुंच है। हालाँकि, जब व्यवसाय केवल एक विचार है या प्रारंभिक चरण में है, तो धन प्राप्त करना एक चुनौती है।

साथ ही, भारत में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (MSME) क्षेत्र की केवल औपचारिक ऋण तक सीमित पहुंच है, यही वजह है कि भारत सरकार ने MSMEs और स्टार्टअप्स के लिए स्टार्टअप व्यवसाय ऋण योजनाओं को शुरू करने का निर्णय लिया है।

Bank loan :-

भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (SIDBI) ने भी बैंकों के माध्यम से इसे चैनलाइज़ करने के बजाय स्टार्टअप और MSME को सीधे ऋण(debt funding for startups) देना शुरू कर दिया है। इन ऋणों पर ब्याज दरें बैंकों द्वारा दी जाने वाली ब्याज दरों में लगभग 300 आधार अंकों से कम हैं।

स्टार्टअप और एमएसएमई के लिए भारत सरकार द्वारा दी जाने वाली कुछ सबसे उल्लेखनीय और लोकप्रिय योजनाएं इस प्रकार हैं

 Incubator and Accelerator (इन्क्यूबेटर व एक्सेलेरेटर) :-

Funding के इस तरीके में Incubator आइडिया जनरेशन से लेकर प्रोडक्ट तैयार करने तक में आपकी मदद करते हैं, वहीं Accelerator आपके बिज़नेस की स्पीड को बढ़ाने में मदद करते हैं.

अक्सर ये प्रोग्राम्स 4-8 महीने तक चलते हैं. एक बिज़नेसमैन को इन प्रोग्राम्स में एक बार शामिल होने के बाद टाइम कमिटमेंट करना होता है

इनकी मदद से आप अपनी फील्ड में आसानी से अच्छे कनेक्शंस बना सकते हैं. फंडिंग के इस तरीके से आप आसानी से अपने स्टार्टअप के लिए फंड जमा कर सकते हैं.


Spread the love

5 thoughts on “Startup fundraising in hindi | स्टार्टअप के लिए पैसा |”

  1. Pingback: Startup company Meaning in Hindi – Startup company का मतलब क्या है? - hindipass

Leave a Comment

Your email address will not be published.