55 फीसदी से ज्यादा मार्केट शेयर के साथ इंडिगो बनी भारत की सबसे बड़ी एयरलाइन, देखें पूरी लिस्ट | विमानन समाचार :-Hindipass

Spread the love


भारतीय विमानन बाजार घरेलू यातायात के मामले में दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा बनने की ओर अग्रसर है। डीजीसीए के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, घरेलू एयरलाइनों द्वारा जनवरी-फरवरी में यात्रियों की संख्या पिछले वर्ष की समान अवधि में 1.41 बिलियन की तुलना में 2.46 बिलियन थी, जो 74.50 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि और 56.82 प्रतिशत की मासिक वृद्धि का प्रतिनिधित्व करती है। फरवरी 2023 में घरेलू एयरलाइनों द्वारा लगभग 12.1 लाख यात्रियों को ले जाया गया, जबकि पिछले साल इसी अवधि में यह संख्या 76.96 लाख थी। घरेलू मार्गों पर, भारतीय कम लागत वाली एयरलाइन इंडिगो की बाजार हिस्सेदारी 50 प्रतिशत से अधिक है और यह लंबे समय से अग्रणी है।

फरवरी 2023 में, इंडिगो ने अन्य एयरलाइनों से बहुत आगे उड़ान भरी और घरेलू विमानन बाजार में 55.9 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी के साथ अपना पहला स्थान बनाए रखा। एयरलाइन टाटा समूह की एयरलाइंस एयर इंडिया और विस्तारा से काफी आगे थी, जिन्होंने क्रमशः 8.9 प्रतिशत और 8.7 प्रतिशत की बाजार हिस्सेदारी के साथ दूसरा और तीसरा स्थान हासिल किया। फरवरी 2023 के लिए डीजीसीए के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, महीने के दौरान इंडिगो ने 67.42 लाख यात्रियों को ढोया, इसके बाद एयर इंडिया (10.76 लाख) और विस्तारा (10.53 लाख) का स्थान रहा।

जबकि एयर इंडिया और विस्तारा जल्द ही एक एयरलाइन में विलय हो जाएंगे, बाजार में हिस्सेदारी 20 प्रतिशत से अधिक होने की उम्मीद नहीं है, जिसका अर्थ है कि इंडिगो आने वाले वर्षों के लिए अपना ताज बनाए रखेगी। फरवरी 2023 में 9.63,000 हवाई यात्रियों के साथ एक अन्य कम लागत वाली एयरलाइन, गोएयर की 8 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी थी, जबकि स्पाइसजेट ने समीक्षाधीन महीने में 7.1 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी के साथ 8.58,000 यात्रियों को उतारा, क्रमशः चौथे और पांचवें स्थान पर रही।

आईएएनएस ने बताया कि फरवरी 2023 में घरेलू अनुसूचित एयरलाइनों को कुल 359 यात्रियों से संबंधित शिकायतें मिलीं। फरवरी में प्रति 10,000 यात्रियों पर शिकायतों की संख्या लगभग 0.3 प्रतिशत थी। डीजीसीए के आंकड़ों के मुताबिक फरवरी में घरेलू अनुसूचित एयरलाइनों के लिए कुल रद्दीकरण दर 0.25 प्रतिशत थी। रद्दीकरण के मुख्य कारणों के रूप में मौसम, तकनीकी या परिचालन संबंधी समस्याओं की पहचान की गई।

डीजीसीए के आंकड़ों का कहना है कि फरवरी में एलायंस एयर (4.1/10,000 यात्रियों), उसके बाद फ्लाईबिग (1.6/10,000 यात्रियों), एयर इंडिया (1.4/10,000 यात्रियों) और स्पाइसजेट (0.6/10,000 यात्रियों) द्वारा सबसे अधिक शिकायतें प्राप्त हुईं। शिकायतों के मुख्य कारण उड़ान की समस्या (28.4 प्रतिशत), सामान (26.2 प्रतिशत) और रिफंड (12 प्रतिशत) थे।


#फसद #स #जयद #मरकट #शयर #क #सथ #इडग #बन #भरत #क #सबस #बड #एयरलइन #दख #पर #लसट #वमनन #समचर


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.