10 साल के भीतर एक और कोविड जैसी महामारी दुनिया पर दस्तक दे सकती है :-Hindipass

Spread the love


एक प्रेडिक्टिव हेल्थ एनालिटिक्स कंपनी के अनुसार, 27.5 प्रतिशत संभावना है कि अगले दशक में कोविड-19 जैसी घातक महामारी हो सकती है क्योंकि वायरस अधिक प्रचलित हो जाते हैं, जिसमें तेजी से वैक्सीन रोलआउट मौतों को कम करने के लिए महत्वपूर्ण है।

लंदन स्थित एयरफिनिटी लिमिटेड के अनुसार, जलवायु परिवर्तन, अंतरराष्ट्रीय यात्रा में वृद्धि, बढ़ती जनसंख्या और जूनोटिक रोगों का खतरा इस जोखिम में योगदान दें।

हालांकि, यदि नए रोगज़नक़ की खोज के 100 दिनों के बाद प्रभावी टीके पेश किए जाते हैं, तो कंपनी के मॉडलिंग के अनुसार घातक महामारी की संभावना 8.1 प्रतिशत तक गिर जाती है।

एयरफिनिटी ने कहा कि सबसे खराब स्थिति में, एक बर्ड फ्लू-प्रकार का वायरस जो मानव-से-मानव संचरण की अनुमति देने के लिए उत्परिवर्तित होता है, ब्रिटेन में एक ही दिन में 15,000 लोगों को मार सकता है।

  • यह भी पढ़ें: भारत में एंडेमिक स्टेज की ओर बढ़ रहा है कोविड, XBB.1.16 सबवैरिएंट आइसोलेटेड: स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी

जैसा कि दुनिया अब कोविद -19 के साथ जी रही है, स्वास्थ्य विशेषज्ञ अपना ध्यान अगले संभावित वैश्विक खतरे की तैयारी पर लगा रहे हैं। पिछले दो दशकों में तीन प्रमुख कोरोनविर्यूज़ पहले ही सामने आ चुके हैं, जिससे सार्स, मर्स और कोविद -19 के साथ-साथ 2009 में स्वाइन फ्लू महामारी भी हुई है।

बर्ड फ्लू के H5N1 स्ट्रेन का तेजी से फैलना पहले से ही चिंताएं बढ़ा रहा है।

जबकि आज तक केवल कुछ ही मनुष्य संक्रमित हुए हैं और इसका कोई सबूत नहीं है कि उन्होंने मानव-से-मानव संचरण की छलांग लगाई है, पक्षियों में आसमान छूती दर और स्तनधारियों में बढ़ती घुसपैठ ने वैज्ञानिकों और सरकारों के बीच चिंता पैदा कर दी है कि वायरस कर सकता है उन तरीकों से उत्परिवर्तित करें जो इसके प्रसार को सुविधाजनक बना सकें।

एयरफिनिटी ने कहा कि एमईआरएस और जीका जैसे कई उच्च जोखिम वाले रोगजनकों के पास कोई अनुमोदित टीका या उपचार नहीं है, और मौजूदा निगरानी दिशानिर्देशों से समय पर एक नई महामारी का पता लगाने की संभावना नहीं है, जो महामारी की तैयारी के उपायों की तत्काल आवश्यकता को रेखांकित करती है।


#सल #क #भतर #एक #और #कवड #जस #महमर #दनय #पर #दसतक #द #सकत #ह


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.